फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

सोमवार, जुलाई 17, 2017

ख़ार की बातें करो

अब हुआ जाता है बिन इज़्हार ही इक़रारे इश्क़
लुत्फ़ यूँ जाता रहा, तकरार की बातें करो
सुन रहा हूँ जाने कब से हो रही फूलों की बात
टेस्ट एहसासों का बदले, ख़ार की बातें करो

-‘ग़ाफ़िल’

1 टिप्पणी: