फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

सोमवार, जुलाई 17, 2017

आजमाऊँ ख़ुद को मैं

झम झमाझम मेघ बरसे कड़कड़ाती बिजलियाँ
हिज़्र की तारीक शब् में आजमाऊँ ख़ुद को मैं
किस ख़ता की दी सज़ा सावन में तन्हा कर मुझे
बन सँवर कर जाने जाना क्या रिझाऊँ ख़ुद को मैं

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें